4.1 C
Munich
Wednesday, February 1, 2023

तीन सींग-तीन आंख वाले नंदी बैल का निधन, मंदिर परिसर में ही दी गई समाधि

Must read

छतरपुर,मध्यप्रदेशः- Death of Nandi bull  मान्यता है कि वेदों ने बैल को धर्म का अवतार माना है. वेदों में बैल को गाय से अधिक मूल्यवान माना गया है. वहीं जब बात नंदी बैल की हो तो वह भगवान शिव के प्रमुख गणों में से एक हैं. मामला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के बुंदेलखंड में केदारनाथ धाम के नाम से मशहूर जटाशंकर धाम का है. यहां एक नंदी बैल का निधन हो गया जिसका बाद में हिंदू विधि विधान से अंतिम संस्कार कर समाधि दी गई.

Chhattisgarh Today

Chhattisgarh Today


Death of Nandi bull  जानकारी के लिए आपको बता दें बीते दिन तीन सींग और तीन आंखो वाले नंदी की बीमारी के चलते मौत हो गई थी मंदिर समिति के सदस्यों ने नंदी बैल का अंतिम संस्कार कर विधि विधान से ब्राह्मणों की उपस्थिति में मंत्रोच्चार करने की ठानी, जिस जगह नंदी पिछले 15 साल से बैठता था. उसी जगह नंदी का निधन हुआ.

Chhattisgarh: शासन ने सात IPS अधिकारियों के किए तबादले, जानें- किसे कहां की मिली जिम्मेदारी

Death of Nandi bull  आपको बता दें यह नंदी बैल 15 साल पहले घूमते घूमते जटाशंकर आ गया था. तीन आंख और तीन सींग की वजह से यह बैल जटाशंकर धाम में आकर्षण का केंद्र था. जबसे यह बैल यहां आया था. तभी से लोगों ने इनका नाम नंदी रख दिया था, जो भी श्रद्धालु जटाशंकर धाम में आते थे. वह नंदी के पास जरूर थोडी देर रुक कर उनसे मन्नत मांगते थे.

अब 10वीं के बाद सीधे कॉलेज में एडमिशन ले सकेंगे छात्र, शिक्षा नीति में हुआ बड़ा बदलाव, जानिए कैसे?

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

12111/114spot_img

Latest article