25.9 C
Munich
Wednesday, August 10, 2022

आज होगा उपराष्ट्रपति का चुनाव : जगदीप धनखड़ और मार्गरेट अल्वा के बीच टक्कर, जानें- क्या है सियासी समीकरण

Must read

नई दिल्लीः-  Vice President Election 2022:  उपराष्ट्रपति पद के लिए आज 6 अगस्त को चुनाव होगा और आज ही चुनाव के नतीजे आ जाएंगे। मौजूदा उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू का कार्यकाल 11 अगस्त को खत्म हो रहा है। एनडीए ने इस बार पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) को उम्मीदवार बनाया, जबकि विपक्ष ने कांग्रेस नेता माग्ररेट अल्वा को उम्मीदवार बनाया है। आइये जानते हैं उपराष्ट्रपति चुनाव की पूरी प्रक्रिया कैसे होती है-

कैसे चुने जाते हैं उपराष्ट्रपति

भारत में उपराष्ट्रपति राज्यसभा के सभापति भी होते हैं और अगर किसी वजह से राष्ट्रपति का पद खाली होता है तो उनकी जिम्मेदारी उपराष्ट्रपति ही संभालते हैं। संविधान के हिसाब से सर्वोच्च पद की बात करें तो राष्ट्रपति के बाद उपराष्ट्रपति का पद होता है फिर उसके बाद प्रधानमंत्री का। चुनाव में सिर्फ लोकसभा और राज्यसभा के सांसद वोट करते हैं। इस चुनाव में मनोनीत सदस्य भी हिस्सा लेते हैं। उपराष्ट्रपति चुनाव में कुल 788 वोट डाले जा सकते है। इसमें लोकसभा के 543 सांसद और राज्यसभा के 243 सदस्य वोट करते हैं। राज्यसभा सदस्यों में 12 मनोनीत सांसद भी होते हैं।


Read More : Chhattisgarh Train Cancelled : छत्तीसगढ़ के रेल यात्रियों के लिए बड़ी खबर, फिर से रद्द की गई 68 ट्रेन, यहां देखें लिस्ट..

Vice President Election 2022:  उपराष्ट्रपति के चुनाव लड़ने के लिए भारत का नागरिक होना जरूरी होता है। उसकी उम्र 35 से अधिक होनी चाहिए और वह राज्यसभा सदस्य चुने जाने की सभी योग्यताओं को पूरा करता हो। उपराष्ट्रपति का चुनाव लड़ने के लिए प्रत्याशी को 15,000 रुपये जमानत राशि के तौर पर जमा कराने होते हैं। चुनाव हार जाने या 1/6 वोट नहीं मिलने पर यह राशि चुनाव आयोग में जमा हो जाती है।

बैलेट पेपर से होता है चुनाव

इस चुनाव की खास बात यह है कि वोटिंग के दौरान सांसद को एक ही वोट देना होता है, लेकिन उसे अपनी पसंद के आधार पर प्राथमिकता तय करनी होती है। बैलेट पेपर पर मतदाता को अपनी पसंद को 1, दूसरी को 2 और इसी तरह से प्राथमिकता तय करनी होती है।

Read More : Train Cancelled List : त्योहारी सीजन में बढ़ी यात्रियों की परेशानी, आज भी कई ट्रेनें रद्द, रिशेड्यूल और डायवर्ट की गई, यहां देखें पूरी लिस्ट..

कैसे होता है उपराष्ट्रपति की चुनाव

Vice President Election 2022:  उपराष्ट्रपति का चुनाव आनुपातिक प्रतिनिधि पद्धति के तहत होता है। इसमें मतदान खास तरह से होता है, जिसे सिंगल ट्रांसफरेबल वोट सिस्टम कहते हैं। उपराष्ट्रपति चुनाव में जितने सदस्यों के वोट पड़ते हैं, उसकी संख्या में 2 से भाग देते हैं और फिर उसमें एक जोड़ दिया जाता है। मान लीजिए की चुनाव में कुल 787 सदस्यों ने वोट डाल तो इसे 2 से भाग देंगे 393.50 आता है। इसमें 0.50 को हटा देंगे क्योकि दशमलव की बाद की संख्या नहीं गिनी जाती है। इसलिए यह संख्या 393 हुई। अब इसमें 1 जोड़ने पर संख्या 394 होता है। चुनाव जीतने के लिए 394 वोट मिलना जरूरी है।

Chhattisgarh Today
Chhattisgarh Today

वोटिंग खत्म होते ही शुरु होगी काउंटिंग

उपराष्ट्रपति के चुनाव में वोटिंग खत्म होने के बाद उसी दिन ही गिनती होती है। पहले राउंड की गिनती में देखा जाता है कि सभी उम्मीदवारों को पहली प्राथमिकता वाले वोट कितने मिले हैं। अगर पहले राउंड में ही किसी उम्मीदवार को जरूरी कोटे के बराबर या उससे ज्यादा वोट मिलते हैं तो उसे विजेता घोषित कर दिया जाता है।

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

12078/ 108spot_img

Latest article